18th Marma Science and Marma Therapy Training Program (5 Days)

Program: 5 Days Marma Science and Marma Therapy Training Program
Date: 18-22nd November 2018

Venue: Nandipuram, Gaindikhata, Haridwar

Download_form

Note: Acceptance of Application is at the sole discretion of Mrityunjay Mission

PROGRAM FEE STRUCTURE

RESIDENTIAL PARTICIPANTS

Category A- Rs.11,000/-per participant with accommodation in Ashrams on twin sharing basis.

ASHRAM ACCOMMODATION IS LIMITED & SHALL BE BOOKED ON FIRST COME FIRST REGISTRATION BASIS. PLEASE CHECK WITH MR MAYANK BEFORE SENDING MONEY.
ONCE ASHRAM ACCOMMODATION IS FULL, REGISTRATION SHALL BE IN CAT. B(HOTEL ONLY)

Category B- Rs 15,000/- per participant with accommodation in hotel (Double occupancy).

Fee is inclusive of Reading Material, To & Fro transport by non ac bus to venue and vegetarian food (breakfast & lunch at venue and packed dinner only). Any other services availed by participants at Ashram or Hotel shall be paid directly. Accommodation is for 6 nights stay only. The Ashram & Hotel accommodation is assured only if full fee is remitted on or before 31st October,2018.

NON RESIDENTIAL PARTICIPANTS

Category C- Rs 8,000/- per participant inclusive of Reading material, to & fro transport by non ac bus to venue from selected points in Haridwar and food (breakfast & lunch at venue only)

REGISTRATION AND PAYMENT OF PROGRAM FEE

The full fee should be remitted on or before 31 October,2018 online /RTGS/NIFT to the following A/C

Bank : PUNJAB NATIONAL BANK, HARIDWAR
Name : MRITYUNJAY MISSION, HARIDWAR
A/C No : 4063000100105677
Bank IFSC Code: PUNB0406300
MICR Code:249024007

Completed application Forms with scanned copy of Fee remittance counterfoil should positively be sent on email (mrityunjaymission@gmail.com) or on whats up no +91 7500041684 to Mr. Mayank Joshi by 31 October, 2018, No verbal registrations shall be done under any circumstances.

If participant cancels his participation before start of program on 18th October, 2018, only 50% fee shall be refunded. After 18 October 2018, no fee is refundable

ON SPOT REGISTRATION: On spot registration can be accepted with an additional fee of Rs 2,000/- at the discretion of Mrityunjay Mission in exceptional situations and where prior written information is sent to Mr Mayank Joshi.

OTHER TERMS AND CONDITIONS

  1. Attendant can be allowed with an additional fee of Rs 6,000/-. No certificate shall be issued.
  2. Transport arrangement from airport, station or bus station shall be done by participants themselves.
  3. Participants are advised to arrive in Ashram/Hotel on 17th & latest by 18th November morning well before 7.00 AM, The buses shall leave for the venue at 8.00 AM. After that , no transport shall be available and participants shall make their own arrangement to reach venue..No transport shall be available from venue to Haridwar during the day before departure of buses around 5.00PM (CONTACT:Mr Mayank Joshi @ Mobile No.9410579845, 7500041684)

16th Marma Science and Marma Therapy Training Program

Program: 5 Days Marma Science and Marma Therapy Training Program
Date: 18-22nd April 2018

Venue: Nandipuram, Gaindikhata, Haridwar

Download_form

Note: Acceptance of Application is at the sole discretion of Mrityunjay Mission

PROGRAM FEE STRUCTURE

RESIDENTIAL PARTICIPANTS

Category A- Rs.10,000/-per participant with accommodation in Ashrams on twin sharing basis.
Category B- Rs 13,000/- per participant with accommodation in hotel (Double occupancy).
Category C- Rs 15,000/- per participant with accommodation in hotel single occupancy).

Fee is inclusive of Reading Material, To & Fro transport by non ac bus to venue and vegetarian food (breakfast & lunch at venue and packed dinner only). Any other services availed by participants at Ashram or Hotel shall be paid directly. Accommodation is for 6 nights stay only. The Ashram & Hotel accommodation is assured only if full fee is remitted on or before 31st march,2018.

NON RESIDENTIAL PARTICIPANTS

Category D- Rs 7,000/- per participant inclusive of Reading material, to & fro transport by non ac bus to venue from selected points in Haridwar and food (breakfast & lunch at venue only)

REGISTRATION AND PAYMENT OF PROGRAM FEE

The full fee should be remitted on or before 31 March,2018 online /RTGS/NIFT to the following A/C

Bank : PUNJAB NATIONAL BANK, HARIDWAR
Name : MRITYUNJAY MISSION, HARIDWAR
A/C No : 4063000100105677
Bank IFSC Code: PUNB0406300 MICR Code:249024007

Completed application Forms with scanned copy of Fee remittance counterfoil be sent on email or on what sup to Mr Mayank Joshi. No verbal registrations shall be done under any circumstances.

If participant cancels his participation before start of program on 18th April,2018, only 50% fee shall be refunded. After 18th April,2018 no fee is refundable

ON SPOT REGISTRATION: On spot registration can be accepted with an additional fee of Rs 2,000/- at the discretion of Mrityunjay Mission in exceptional situations and where prior written information is sent to Mr Mayank Joshi.

OTHER TERMS AND CONDITIONS

  1. If you have attended Mrityunjay mission 5-day workshop before kindly mention it.
  2. Attendant can be allowed with an additional fee of Rs5,000/-. No certificate shall be issued.
  3. Transport arrangement from airport, station or bus station shall be done by participants themselves.
  4. Participants are advised to arrive in Ashram/Hotel on 17th &latest by 18th April morning well before 7.00 AM, The buses shall leave for the venue at 8.00 AM. After that , no transport shall be available and participants shall make their own arrangement to reach venue..No transport shall be available from venue to Haridwar during the day before departure of buses around 5.00PM (CONTACT:Mr Mayank Joshi @ Mobile No.9410579845, 7500041684)

15th International Marma Science and Marma Therapy Training Workshop

Program: International Marma Science and Marma Therapy Training Workshop

Date: 26-30th November 2017

Venue: Shri Mrityunjay, Campus, Nandipuram (Gandikhata)Hardwar-Najibabad Road, Hardwar (Uttarakhand)

Download_form

 

कार्यक्रम : अन्तराष्ट्रीय मर्म विज्ञान एवं मर्म चिकित्सा प्रक्षिशन कार्यशाला

दिनांक: 26-30 नवम्बर 2017

कार्यशाला स्थल : श्री मृत्युंजय परिसर , नंदिपुरम(गेंड़ी खाता), हरिद्वार – नजीबाबाद रोड , हरिद्वार (उत्तराखंड )

Download_form

14th International Marma Science and Marma Therapy Training Workshop

Program: International Marma Science and Marma Therapy Training Workshop

Date: 23-27th April 2017

Venue: Shri Mrityunjay, Campus, Nandipuram (Gandikhata)Hardwar-Najibabad Road, Hardwar (Uttarakhand)

Download_form


 

कार्यक्रम : अन्तराष्ट्रीय मर्म विज्ञान एवं मर्म चिकित्सा प्रक्षिशन कार्यशाला

दिनांक: 23-27 अप्रैल 2017)

कार्यशाला स्थल : श्री मृत्युंजय परिसर , नंदिपुरम(गेंड़ी खाता), हरिद्वार – नजीबाबाद रोड , हरिद्वार (उत्तराखंड )

Download_form

International Marma Science and Marma Therapy Training Workshop (13th)

Program: International Marma Science and Marma Therapy Training Workshop

Date: 20-24th November 2016

Venue: Shri Mrityunjay, Campus, Nandipuram (Gandikhata)Hardwar-Najibabad Road, Hardwar (Uttarakhand)

Download_form


 

कार्यक्रम : अन्तराष्ट्रीय मर्म विज्ञान एवं मर्म चिकित्सा प्रक्षिशन कार्यशाला

दिनांक: 20-24 नवम्बर 2016)

कार्यशाला स्थल : श्री मृत्युंजय परिसर , नंदिपुरम(गेंड़ी खाता), हरिद्वार – नजीबाबाद रोड , हरिद्वार (उत्तराखंड )

Download_form

Mrityunjay Mission Training Course (12th) on Marma Science and Marma Therapy (20-24 April 2016)

Mrityunjay Mission announces its Twelth Training Course in Marma Science and Therapy, the ancient method of maintaining health and treating disease through stimulation of vital points in the body. The course will be conducted under the leadership and guidance of Dr SK Joshi, senior Ayurvedic Physician and Surgeon.

Marma Science has been a Gupta Vidya (hidden science) and it is an untouched chapter of Indian surgery, having its genesis in the Susruta Samhita. It is an ancient knowledge that has been researched and brought down to the present. Establishing, spreading and utilizing this knowledge for treatment is a major objective of Mrityunjay Mission.

Venue: Sri Yantra Mandir, Kankhal, Haridwar, Uttarakhand
Dates:  20-24 April 2016
Course Fees: Rs 8500/- (Rupees Eight thousand Five Hundred only). This includes accommodation and all meals at the venue.

Download_form

Objectives and Competencies

This training course has as its objective the imparting of a basic background of Marma Science and developing competence in giving marma therapy for selected diseases as well as for regular maintenance of health.

The participants in the course will understand the power of self healing which will help them not to rely on the invasive techniques and allopathic medicines for common diseases. After assessing the power of self healing, they can use Marma Therapy as preventive and curative way of treatment.

A number of diseases where the negative feedback is obtained by different means, Marma Therapy provides a chance for easy cure. This course will deal with the management of 10 common diseases. Also, the training course will provide competence in Self-Marma Therapy, which can be taught to others, for promotion of health and prevention of disease. However, it requires a spirit of dedication, non-commercial attitude and development of one’s own internal capacity to support the therapeutic skills.

Course Content

This training course will provide a background of Vedic Medical Sciences including Ayurveda, Yoga and Marma Science, Medical Ethics (achara samhita), Anatomy according to Ayurveda and modern medicine, the concept of Prana and pranayama,   basic training in and developing competence in self marma therapy and therapy in common diseases, for the purpose of maintaining health and treating disease. The method for development of one’s own internal capacity to support the therapeutic skills will also be suggested.

Mrityunjay Mission Training Course (11th) on Marma Science and Marma Therapy (22-26 November 2015)

Mrityunjay Mission announces its Tenth Training Course in Marma Science and Therapy, the ancient method of maintaining health and treating disease through stimulation of vital points in the body. The course will be conducted under the leadership and guidance of Dr SK Joshi, senior Ayurvedic Physician and Surgeon.

Marma Science has been a Gupta Vidya (hidden science) and it is an untouched chapter of Indian surgery, having its genesis in the Susruta Samhita. It is an ancient knowledge that has been researched and brought down to the present. Establishing, spreading and utilizing this knowledge for treatment is a major objective of Mrityunjay Mission.

Venue: Prem Nagar Ashram, Haridwar, Uttarakhand
Dates:  22-26 November 2015
Course Fees: Rs 8500/- (Rupees Eight thousand Five Hundred only). This includes accommodation and all meals at the venue.

Download_form

Objectives and Competencies

This training course has as its objective the imparting of a basic background of Marma Science and developing competence in giving marma therapy for selected diseases as well as for regular maintenance of health.

The participants in the course will understand the power of self healing which will help them not to rely on the invasive techniques and allopathic medicines for common diseases. After assessing the power of self healing, they can use Marma Therapy as preventive and curative way of treatment.

A number of diseases where the negative feedback is obtained by different means, Marma Therapy provides a chance for easy cure. This course will deal with the management of 10 common diseases. Also, the training course will provide competence in Self-Marma Therapy, which can be taught to others, for promotion of health and prevention of disease. However, it requires a spirit of dedication, non-commercial attitude and development of one’s own internal capacity to support the therapeutic skills.

Course Content

This training course will provide a background of Vedic Medical Sciences including Ayurveda, Yoga and Marma Science, Medical Ethics (achara samhita), Anatomy according to Ayurveda and modern medicine, the concept of Prana and pranayama,   basic training in and developing competence in self marma therapy and therapy in common diseases, for the purpose of maintaining health and treating disease. The method for development of one’s own internal capacity to support the therapeutic skills will also be suggested.

Mrityunjay Mission Training Course on Marma Science and Marma Therapy (23-27 April 2015)

Mrityunjay Mission announces its Tenth Training Course in Marma Science and Therapy, the ancient method of maintaining health and treating disease through stimulation of vital points in the body. The course will be conducted under the leadership and guidance of Dr SK Joshi, senior Ayurvedic Physician and Surgeon.

Marma Science has been a Gupta Vidya (hidden science) and it is an untouched chapter of Indian surgery, having its genesis in the Susruta Samhita. It is an ancient knowledge that has been researched and brought down to the present. Establishing, spreading and utilizing this knowledge for treatment is a major objective of Mrityunjay Mission.

Venue: Prem Nagar Ashram, Haridwar, Uttarakhand
Dates:  23-27 April 2015
Course Fees: Rs 8000/- (Rupees Eight thousand only). This includes accommodation and all meals at the venue.

Download_form

 

Objectives and Competencies

This training course has as its objective the imparting of a basic background of Marma Science and developing competence in giving marma therapy for selected diseases as well as for regular maintenance of health.

The participants in the course will understand the power of self healing which will help them not to rely on the invasive techniques and allopathic medicines for common diseases. After assessing the power of self healing, they can use Marma Therapy as preventive and curative way of treatment.

A number of diseases where the negative feedback is obtained by different means, Marma Therapy provides a chance for easy cure. This course will deal with the management of 10 common diseases. Also, the training course will provide competence in Self-Marma Therapy, which can be taught to others, for promotion of health and prevention of disease. However, it requires a spirit of dedication, non-commercial attitude and development of one’s own internal capacity to support the therapeutic skills.

Course Content

This training course will provide a background of Vedic Medical Sciences including Ayurveda, Yoga and Marma Science, Medical Ethics (achara samhita), Anatomy according to Ayurveda and modern medicine, the concept of Prana and pranayama,   basic training in and developing competence in self marma therapy and therapy in common diseases, for the purpose of maintaining health and treating disease. The method for development of one’s own internal capacity to support the therapeutic skills will also be suggested.

विभिन्न रोगों में सामान्य जड़ी-बूटियों का प्रयोग

हमारे देश के प्रत्येक घर में भोजन निर्माण और अन्य दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये बहुत सारी वस्तुऐ प्रयोग में लाई जाती हैं | नमक, चीनी, गुड़, जीरा, हींग, धनिया, हल्दी, अजवाइन, लौंग, सोंठ, पीपल (पिप्पली), कालीमिर्च, जायफल, तेजपत्र, दालचीनी, सरसों का तेल, नारियल का तेल, देसीघी, कर्पूर, कत्था, प्याज, लहसुन, अदरक, आलू, लौकी और घीकुवांर आदि कुछ महत्वपूर्ण मसाले/वस्तुओं का प्रयोग विभिन्न रोगों में सामान्यत: किया जाता है | कुछ विशेष रोगों में इनका प्रयोग निम्न प्रकार किया जाता है |

  • नस खिंच जाने की स्थिति में- सैंधा नमक के पानी से सिकाई करनी चाहिए त्तथा हल्दी, नमक, सरसों के तैल का स्थानीय प्रयोग (Local application) किया जाता है |
  • सूजन (Swelling/ Inflammation)- हल्दी व चूने का लेप (स्थानीय प्रयोग) लाभकारी होता है |
  • गुमचोट लगने/नील पड़ना (Contusion/bruise)- चोट लगने से सूजन होने पर शुद्ध हल्दी का चूर्ण 1/2-1 चम्मच की मात्रा में दूध के साथ पीने से बहुत लाभ होता है |
  • चोट लगने पर जामुन की गुठली पीस कर लगाने से खून बंद हो जाता है |
  • मोच आने और हड्डी की चोट में भी हल्दी का बाह्यऔर आभ्यांतर प्रयोग लाभकारी है |
  • Herpes Zooster- नमक (Common salt) को गरम पानी में गाढ़ा घोल बनाकर स्वच्छ रुई से स्थानीय प्रयोग करना चाहिए इससे फफोले नहीं पड़ते हैं तथा जलन रो दर्द भी शीघ्रता से नष्ट होता है |
  • त्वक विकार (Skin lesions, urticaria)- हल्दी का स्थानीय प्रयोग व खाने के लिए प्रयोग कराना चाहिए |
  • आंव, दस्त (Dysentry)- आंव, दस्त की स्थिति में सोंठ और सौंफ का प्रयोग लाभकारी होता है | यदि दूध पीने से आंव, दस्त की स्थिति होती हो तो दूध में सोंठ मिलाकर पीना चाहिए |
  • अतिसार (Diarrhoea)- नमक और चीनी का पानी में घोल बनाकर (मुख द्वारा) प्रयोग करना चाहिए |
  • कृमिविकार (Worm infestation)- 4 भाग अजवाइन, 2 भाग कालानमक, 1 भाग हींग मिलाकर चूर्ण बनाकर 2 ग्राम की मात्रा में सुबह शाम गर्म पानी से प्रयोग करना चाहिए |
  • फीताकृमि और अंकुश कृमि (Tape worm and Hook worm)- फीताकृमि और अंकुश कृमि के लिए आडू (Peach) के पाँच पत्ते, नीम के पाँच पत्ते और मात्रा में दूब घास को धोकर साफ कर पीसकर चटनी बनाकर प्रयोग कराने से लाभ होता है |
  • बलगम के साथ खांसी (Cough with sputum) – दूध में पिप्पली उबालकर लेना लाभप्रद है |
  • खांसी- (Cough)- हल्दी भून कर दूध से आधा चम्मच सुबह शाम लेने से खांसी ठीक हो जाती है | अत्यधिक बलगम (Excessive expectoration) की स्थिति में दूध के साथ सोंठ, मरिच, पिप्पली का चूर्ण का प्रयोग करते हैं | पिप्पली क्षीरपाक का प्रयोग फेफड़ों के रोगों में लाभप्रद है |
  • खांसी (Cough) में अदरक के स्वरस का शहद में मिलाकर प्रयोग करना चाहिए | यदि दूध पीने से खांसी होती हो तो त्रिकटु को दूध में मिलाकर पीना चाहिए |
  • फुफ्फुस आवरण शोथ (Pneumonia)- जायफल को घिसकर शहद के साथ चाटने से और सैंधानमक पीसकर छाती में लगाने से लाभ होता है |
  • सर्दी, नजला (llergic rhinitis)- कालीमिर्च, हल्दी भूनकर आधा चम्मच सुबह शाम तथा (हर्रा) का चूर्ण आधा चम्मच सुबह शाम गर्म जल से लेने पर लाभ होता है |
  • काली मिर्च को भिगोकर, रगड़कर एंव छिलका निकालकर, सुखाकर सुरक्षित रख लें | चार दिनों दाँतों से चबाकर जीभ के नीचे रखने पर सर्दी, जुकाम में तुरंत आराम मिलता है |
  • जुकाम (Cold and Coryza)- 4-5 बूंद सरसों का तैल का नस्य (नासिका रन्ध्रों द्वारा ली जाने वाली औषधि) जुकाम में अत्यंत लाभकारी होता है |
  • गठिया एंव मांसपेशियों का दर्द (Arthritis and Muscular pain)- अजवाइन, लहसुन आदि को तैल में पकाकर एंव कपूर मिलाकर स्थानीय प्रयोग करते है | लहसुन का तैल, लहसुन का रस और सरसों के तैल की मालिश जोड़ों के दर्द में करते हैं |
  • संधिवात, गठिया (Joints pain)- दूध से लेने पर लाभ होता है |
  • नागर मोथा जोड़ों के दर्द की अचूक दवा है | नागर मोथा (साइप्रस रोटंडस) की जड़ का चूर्ण 1/2 ग्राम से 1 ग्राम, सुबह शाम लगातार खाने से आमवात, संधिवात में लाभ होता है अन्य प्रचलित आयुर्वेदिक दवाओं एंव एलोपैथिक वेदनाहर दवाओं के विपरीत इस दवा का कोई भी दुष्प्रभाव नहीं होता है |
  • जीर्ण संधिवात, गठिया- एरण्ड का तैल मालिश के लिये व 1 से 2 चम्मच दूध के साथ पीने के लिये देना चाहिए | गठिया रोग में वरित (Enema) के लिये भी एरण्ड तैल का प्रयोग लाभदायक होता है |
  • व्रण रोपक (घाव) भरने के लिये (Wound healing)- देसी घी का स्थानीय प्रयोग, मलाई का स्थानीय प्रयोग, हल्दी का स्थानीय व आभ्यान्तर प्रयोग लाभकारी है |
  • व्रण रोपक (घाव भरने के लिये)- आलू का गूद, घीकुवांर का गूदा तथा पुराना गाय का घी लगाने से पुराने घाव भर जाते हैं |
  • मुँह के व्रण (घाव) भरने के लिये (Wound healing in oral cavity)- अमरुद की पत्तियों का काढ़ा तथा कत्थे का स्थानीय प्रयोग करना चाहिए |
  • कर्णशूल – लहसुन का तैल, (लहसुन के रस को सरसों के तैल में पकाकर) कान में डालने से लाभ होता है |
  • सिर दर्द (Head ache)- लौकी के गुदे को सिर में लगाने से लाभ होता है |
  • निद्रा नाश (Insomnia)- ब्राह्यी, जटामांसी का चूर्ण आधा चम्मच रात को सोते समय गाय के दूध से लेने पर लाभ होता है |
  • मेधा शक्ति वर्धन के लिये (To increase Mental strength)- बादाम, कालीमिर्च चूर्ण को गाय के घी में भूनकर, दूध में उबालकर प्रयोग कराया जाता है |
  • बाल झड़ना (Hair Loss)- ऑवले का प्रयोग खाने और लगाने के लिये करना चाहिये |
  • नेत्र ज्योतिवर्धन हेतु होली के त्यौहार के अवसर पर जब आँवले पक जाते है उस समय आँवले तोड़कर सुखा लें तथा बीज निकालकर चूर्ण बनाकर, आंवले के रस में भिगाकर सुखा लें, इस प्रक्रिया को 21 बार दोहरायें, इस आमलकी रसायन का प्रयोग शहद के साथ लाभप्रद होता है |
  • मोतिया बिंद (Cataract)- सफेद प्याज का स्वरस, छोटी मक्खी के शहद में मिलाकर 1 बूंद आँख में डालने से लाभ होता है |
  • मधुमेह (Diabetes)- दालचीनी, तेजपत्र, मेथी, जामुन के बीज, करेले का चूर्ण- 1 / 2 चम्मच सुबह शाम प्रयोग करने से मधुमेह रोग में लाभ होता है |
  • Post Menopause Sndrome (P.M.s)- जीरा तथा धनिया पाउडर मिलाकर आधा चम्मच सुबह शाम प्रयोग करने से लक्षणों में तुरंत लाभ होता है |
  • ह्रदय रोग (Heart Disease)- बड़ी इलायची के बीच का चूर्ण शहद मिलाकर चाटना चाहिए |
  • रक्तचाप (P.) व अत्यधिक पसीने की स्थिति में यदि मेथी का प्रयोग आवश्यक हो तो मेथी बीज को गाय के दूध में भिगाकर, तत्पश्चात सुखाकर घी में भूनकर पीस लें तथा 1 / 2 चम्मच सुबह शाम गाय के दूध से प्रयोग कराना चाहिए |
  • ज्वर व अत्यधिक पसीने को स्थिति- आधा चम्मच धनिया पाउडर, सुबह शाम नारियल के पानी के साथ प्रयोग कराना चाहिए | लम्बे समय तक बुखार रहने पर गिलोय का काढ़ा बनाकर पीने से लाभ होता है |
  • डेंगू एंव अन्य विषाणु जन्य बुखारों में अजवायन, खूबकलां तथा गिलोय के काढ़े का प्रयोग लाभकारी होता है | प्लेटलेट्स की कमी होने पर पपीते के पत्ते का स्वरस अत्यंत लाभकारी है | भोजन में हल्का, सुपाच्य भोजन तथा अनार और अन्य फलों के रस का प्रचुर मात्रा में प्रयोग अत्यंत लाभकारी होता है |
  • गर्मी लगने पर- सौंफ और कालीमिर्च का मिश्री से बना शरबत पीना चाहिए | लू लगने की अवस्था में पुदीना युक्त कच्चे आम का पन्ना प्रयोग करना चाहिए |
  • स्तन्यवर्धक (Medication inducing Lactation)- जीरा चूर्ण दूध के साथ पिलाना चाहिए |
  • जलन की चिकित्सा- जलन की चिकित्सा जल है |
  • ठण्डे पानी की पट्टी या धारा डालने से जलन शांत होती है |
  • घी या मक्खन को कांसे के बर्तन में रख कर पानी से सौ बार धोये घी या मक्खन का प्रयोग लगाने के लिए खाने के लिए करना जलन शांत करने के लिए लाभकारी होता है |
  • हाथ पैर या शरीर के किसी भाग पर जलन होने पर लौकी, या आलू का गूदा मलते है या लौकी और आलू को बारीक़ पीस कर लेप भी कर सकते है |
  • छाती में जलन होने पर नारियल पानी, ठण्डा दूध या जौ का सत्तू ठण्डे पानी के साथ पीने से लाभ होता है |
  • धनियाँ बीज को कूट कर पानी में भिगोकर, मसल कर तथा छान कर पिलाने से जलन एंव बुखार में बहुत लाभ होता है इससे पेशाब की जलन में भी फायदा होता है |
  • जलने पर (Burn lesions)- नारियल का तेल और चूने के पानी का स्थानीय प्रयोग जलने पर लाभकारी होता है |
  • कैंसर जैसे रोगों में रेडियोथेरापी के बाद स्थानीय जलन को दूर करने के लिए घी कुंवार (ऐलोवेरा) का स्थानीय प्रयोग लाभदायक होता है |

मर्म चिकित्सा का परिचय एवं ऐतिहासिक प्रष्ठभूमि

मनुष्य शरीर को धर्म, अर्थ काम और मोक्ष का आधार माना गया है| इस मनुष्य शरीर से समस्त लौकिक एवं पारलौकिक उपलब्धियों/ सिद्धियों को पाया जा सकता है| वहीं ‘शरीरं व्याधि मंदिरम’ भी कहा गया है| क्या रोगी एवं अस्वस्थ शरीर से इन चारों फलों की प्राप्ति संभव है? क्या धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति के साधन इस शरीर को स्वस्थ रखने एवं इसको माध्यम बनाकर अनेक सिद्धियों को प्राप्त करने का कोई उपाय है? इस प्रश्न के उत्तर में मर्म विद्या का नाम लिया जा सकता है|

वास्तव में मानव शरीर आरोग्य का मंदिर एवं साहस, शक्ति, उत्साह का समुद्र है, क्योंकि इस मनुष्य शरीर में परमात्मा का वास है| स्कन्द पुराण के अनुसार मनुष्य की नाभि में ब्रह्मा, ह्रदय में श्रीविष्णु एवं चक्रों में श्रीसदाशिव का निवास स्थान है| ब्रह्मा वायुतत्व, रुद्र अग्नितत्व एवं विष्णु सोमतत्व के बोधक है| यह विचारणीय विषय है कि परमात्मा का वास होने पर यह शरीर रोगी कैसे हो सकता है? यदि हम इस प्रश्न पर गंभीरता से विचार करें तो हमे इन समस्त समस्याओं का समाधान इसी शरीर में प्राप्त हो जाता है| योग, प्राणायाम एवं मर्म चिकित्सा के माध्यम से शरीर को स्वस्थ कर आयु और आरोग्यसंवर्धन के संकल्प को पूरा किया जा सकता है| जहाँ योग और प्राणायाम ‘स्वस्थ्यस्वास्थयरक्षणम’ के उद्देश्य के पूर्ति करता है, वहीं मर्म चिकित्सा तुरंत कार्यकारी एवं सद्यः फलदायी होने से रोगों को कुछ ही समय में ठीक कर देती है| यह आश्चर्यजनक, विस्मयकारी चिकित्सा पद्धति बौद्ध काल में बुद्ध धर्म के प्रचार-प्रसार के साथ दक्षिण-पूर्वी एशिया सहित सम्पूर्ण विश्व में एक्यूप्रेशर, एक्यूपंचर आदि अनेक विधाओं के रूप में  विकसित हुई|

ईश्वर स्त्री सत्तात्मक है, अथवा पुरुष सत्तात्मक यह कहना संभव नही है, परन्तु ईश्वर हम सभी से माता-पिता के समान प्रेम करता है| ईश्वर ने वह सभी वस्तुएं हमें प्रदान की है, जो की हमारे अस्तित्व के लिए आवश्यक हैं| ईश्वर ने हमें असीमित क्षमता प्रदान की है, जिससे हम अनेक भौतिक और अध्यात्मिक शक्तियों को प्राप्त करते है| स्व-रोग निवारण क्षमता इन्ही शक्तियों में से एक है, जिसके द्वारा प्रत्येक मनुष्य शारीरिक, मानसिक और अध्यात्मिक रूप से स्वस्थ रह सकता है| विज्ञान के द्वारा भौतिक जगत के रहस्यों को ही समझा जा सकता है, जबकि दर्शन के द्वारा भौतिक जगत के वास्तविक रहस्य के साथ साथ उसके अध्यात्मिक पक्ष को समझने में भी सहायता मिलती है| ईश्वर ने अपनी इच्छा की प्रतिपूर्ति के लिए इस संसार की उत्पत्ति की है तथा उसने ही अपनी अपरिमित आकांक्षा के वशीभूत मनुष्य को असीम क्षमताओं से सुसंपन्न कर पैदा किया है| दुःख एवं कष्ट रहित स्वस्थ जीवन इस क्षमता का परिणाम है| सार रूप यह जानना अत्यंत महत्वपूर्ण है की ईश्वर का पुत्र होने के कारण मनुष्य समस्त ईश्वरीय गुणों और क्षमताओं से सुसंपन्न है| मनुष्य शरीर प्रक्रति/ ईश्वर द्वारा त्रुटिहीन तकनीक संपन्न मशीन है| जब जीवन के आधारभूत सिद्धांतों की अवहेलना की जाती है, तब यह शरीर अस्वस्थ होता है| मनुष्य शरीर में स्थित ईश्वर- प्रदत्त स्वरोग निवारण-क्षमता हमारी व्यक्तिगत उपलब्धि नही है, वरन मनुष्य शरीर में ईश्वरीय गुणों की उपस्थिति का ही द्योतक है|

अनुमानों पर आधारित विज्ञान के द्वारा किसी भी तथ्य को सम्पूर्णता से जानना संभव नही है| अतः मर्म विज्ञान की समीक्षा वर्तमान वैज्ञानिक मानदंडो के आधार पर कर्म उक्ति संगत और समीचीन नही है| इसके आधार पर मर्म विषयक किसी एक पक्ष का ज्ञान ही प्राप्त हो सकता है| समवेत परिणामों की समग्र समीक्षा इसके माध्यम से संभव नही है| मर्म चिकित्सा एक एसी चिकित्सा पद्धति है, जिसमे अल्प समय में थोड़े से अभ्यास से अनायास उन सभी लाभों को प्राप्त किया जा सकता है, जो किसी भी प्रकार की प्रचलित व्यायाम विधि द्वारा मनुष्य को उपलब्ध होता है| आवश्यकता मर्म विज्ञान एवं मर्म चिकित्सा के प्रचार एवं प्रसार की है, जिससे अधिक से अधिक लोग इस चिकित्सा पद्धति का लाभ उठा सकें| जहाँ अन्य चिकित्सा पद्धतियों का इतिहास कुछ सौ वर्षों से लेकर हजारों वर्ष तक का माना जाता है, वहीँ मर्म चिकित्सा पद्धति को काल खंड में नही बाँधा जा सकता है| मर्म चिकित्सा द्वारा क्रियाशील किया जाने वाला तंत्र (107 मर्म स्थान) इस मनुष्य- शरीर में मनुष्य के विकास क्रम से ही उपलब्ध है| समस्त चिकित्सा पद्धतियाँ मनुष्य द्वारा विकसित की गई है, परन्तु मर्म चिकित्सा प्रकृति/ इश्वर प्रद्त्त्त चिकित्सा पद्धति है| अतः इसके परिणामों की तुलना अन्य चिकित्सा पद्धतियों से नही की जा सकती| अन्य किसी भी पद्धति से अनेक असाध्य रोगों को मर्म चिकित्सा द्वारा आसानी से उपचारित किया जा सकता है| मर्म चिकित्सा ईश्वरीय विज्ञान है, चमत्कार नही| इसके सकारात्मक प्रभावों से किसी को चमत्कृत एवं आश्चर्यचकित होने की आवश्यकता नही, आश्चर्य तो अपने शरीर को न जानने समझने का है, कि हम इनको न जानकर भयावह कष्ट रोग भोग रहे है| इस मानव शरीर में असीम क्षमताएं एवं संभावनाएं है, मर्म चिकित्सा तो स्वस्थ्य विषयक समस्याओं के निवारण का एक छोटा सा उदहारण मात्र है|

ईश्वर ने मनुष्य शरीर में स्वास्थ्य संरक्षण, रोग निवारण एवं अतीन्द्रिय शक्तियों को जाग्रत करने हेतु 107 मर्म स्थानों का सृजन किया है| कई मर्मो की संख्या 1 से 5 तक है| ईश्वर की उदारता का इससे बड़ा उदहारण क्या हो सकता है की उसने 4 तल ह्रदय मर्म, 4 इन्द्र्वस्ति आदि मर्म बनाये है, इसका आवश्यकतानुसार (अंगभंग होने की अवस्था) प्रयोग कर लाभान्वित हुआ जा सकता है| मर्म चिकित्सा विश्व की सबसे सुलभ, सस्ती, सार्वभौमिक, स्वतंत्र और सद्यःफल देने वाली चिकित्सा पद्धति कही जा सकती है| बिना औषधि प्रयोग एवं शल्य कर्म के रोग निवारण की क्षमता इस शरीर में देकर इश्वर ने मानवता पर परम उपकार किया है| मर्म चिकित्सा के सद्यः परिणामों को देखकर ईश्वर की उदारता के प्रति कृतज्ञता का सागर लहराने लगता है|

मनुष्य-शरीर की क्षमताओं का आंकलन करने से पूर्व यह जानना आवश्यक है, की यह शरीर ईश्वर की सर्वोतम कृति है| समस्त लौकिक और परलौकिक क्षमताएं/सिद्धियाँ इसी के माध्यम से पाई जा सकती है| यह शरीर मोक्ष का द्वार है| नव दुर्गो (नौ किलों) से रक्षित यह नगरी (शरीर) ही स्वर्ग है| यह नव दुर्ग या नौ द्वार हमारी इन्द्रियां है| मर्म चिकित्सा हजारों साल पुरानी वैदिक चिकित्सा पद्धति है| परिभाषा के अनुसार “या क्रियाव्याधिहरणी सा चिकित्सा निगद्यते” अर्थात कोई भी क्रिया जिसके द्वारा रोग की निवृति होती है, वह चिकित्सा कहलाती है| चिकित्सा पद्धतियों की प्राचीनता पर विचार करने से यह स्पष्ट है की औषधियों के गुण-धर्म और कल्पना का ज्ञान होने से पूर्व स्वस्थ रहने के एकमात्र उपाय के रूप में मर्म चिकित्सा का ज्ञान जन सामान्य को ज्ञात था| उस समय स्वस्थ्यसंवर्धन एवं रोगों की चिकित्सा के लिए मर्म चिकित्सा का प्रयोग किया जाता था| अत्यंत प्रभावशाली होने तथा अज्ञानतावश की गई मर्म चिकित्सा के द्यातक प्रभाव होने से इस पद्धति का स्थान आयुर्वेदीय औषधि चिकित्सा ने ले लिया था, यह पद्धति मर्मचिकित्साविदों द्वारा गुप्त विद्या के रूप में परम्परागत रूप से सिखाई जाने लगी| व्यापक प्रचार एवं शिक्षण के आभाव में यह विज्ञान प्रायः लुप्त हो गया| सही स्वरुप एवं विधि से उपयोग करने पर अत्यंत द्यातक होने के कारण मर्म चिकित्सा का ज्ञान हजारों वर्ष तक अप्रकाशित रखा गया| इसको अनेक ऋषियों ने अपने अभ्यास एवं ज्ञानचक्षुओं से जाना जाता लोकहितार्थ उसका उपयोग किया| प्राचीन कल में इस विद्या को गुप्त रखने का क्या उद्देश्य रहा होगा, इसको जानने से पहले यह जानना आवश्यक है की मर्म क्या है? चिकित्सकीय परिभाषा के अनुसार ‘मारयन्तीतिमर्माणि’ अर्थात शरीर के वह विशिष्ट भाग जिन पर आघात करने अर्थात चोट लगने से मृत्यु संभव है, उन्हें मर्म कहा जाता है| इसका सीधा अर्थ यह है की शरीर का यह भाग अत्यंत महत्वपूर्ण है, तथा जीवनदायनी ऊर्जा से युक्त है| इन पर होने वाला आघात मृत्यु का कारण हो सकता है| इन स्थानों पर प्राणों का विशेष रूप से वास होता है| अतः इन स्थानों की यत्नपूर्वक रक्षा करनी चाहिए|

अभी तक मर्मविज्ञान के विषय में अधिक जानकारी न होने के कारण इस महत्वपूर्ण विद्या का प्रचार-प्रसार नही हो पाया| इसके उपयोग के विषय में अधिकांश आयुर्वेद विशेषज्ञ अनभिज्ञ रहे है| मर्मो के वर्णन को मात्र शरीर रचना का विषय मान लिया गया| मैं सुश्रुत संहिता- षष्टम अध्याय ‘प्रत्येक मर्म निर्देश’ नामक अध्याय में डॉ0 भास्कर गोविन्द घाणेकर के विमर्श का कुछ अंश उदधृत करना चाहूँगा- डॉ0 घाणेकर के अनुसार-

“मर्म शब्द की निरुक्ति उपर्युक्त प्रकार से ग्रंथो में वर्णित है, और व्यव्हार में भी मर्म के ऊपर आघात या प्रहार होने से (ह्रदय के सम्बन्ध से मानसिक अघात होने से भी) म्रत्यु हो जाती है, एसी काल्पना है| इन स्थानों पर अघात होने से जीव का नाश होता है, इसलिए ये जीव स्थान Vital parts भी कहलाते है| जीवस्थान एवं Vital parts का योगार्थ एक ही है| मर्म वितरण आयुर्वेदिक शरीर का विशेष भाग है| इसमें संदेह नही, परन्तु इसकी विशेषताओं का हमें ठीक आंकलन नही हो रहा है, की मर्मों के निमित्त हमे अनेक अंगों और स्थानों का जिनका विवरण पिछले अध्यायों में नही हुआ है, बहुत उपयोगी विवरण मिलता है|”

अनुभव से यह सिद्ध हुआ है की यदि इन स्थानों पर समुचित शास्त्रोक्त चिकित्सा क्रियाविधि का उपयोग किया जाय तो शरीर को निरोगी एवं चिरायु बनाया जा सकता है| साथ ही विभिन्न सुखसाध्य, कृच्छ्रसाध्य एवं असाध्य रोगों में मुक्ति पाई जा सकती है| मर्मविद्या- मर्मज्ञ विभिन्न ऋषि मुनियों ने सर्व-सामान्य के लिए सुलभ एवं उपयोगी योग- प्राणायाम से प्रथक उन लोगों के लिए मर्म विद्या/ मर्म चिकित्सा का अन्वेषण किया, जो निरंतर लोक कल्याण, लोकहित, लोकानंद उपलब्ध कराने वाले समाधि और ब्रह्मज्ञान के आकांक्षी है| निरंतर सांसारिक हितचिंतन में संलग्न साधको के लिए नियमित रूप से स्थूल यौगिक आसन व्यायामादी/ प्राणायाम द्वारा शरीर को स्वस्थ रखने का उपाय करना संभव नही है| उनको मर्म विद्या/चिकित्सा द्वारा सद्यःफल प्राप्त होता है, जो शारीरिक आरोग्य, मानसिक शांति एवं अध्यात्मिक उन्नति एवं परम ब्रह्म से तदाकार होने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देता है| जहाँ एक और मर्म विद्या के द्वारा लौकिक/परलौकिक सुखों की प्राप्ति संभव है, वहीँ इस विद्या के दुरूपयोग से यह घातक भी हो सकती है| अतः मर्म चिकित्साविद के अतिरिक्त यह विद्या राजाओं एवं योद्धाओं को ही सिखाई जाती थी| वर्तमान सन्दर्भ में यह समय वेद विद्या-प्रकाशन का कल है| हजारों वर्षों से अप्रकाशित वैदिक ज्ञान को आज के सन्दर्भ में लोक कल्याण हेतु प्रस्तुत करने की आवश्यकता है|